श्रीगंगानगर : राजस्थान में श्रीगंगानगर जिले में खाकी एक बार फिर दागदार हुई है. यहां एसीबी बीकानेर की टीम ने कारवाई करते हुए एक थानाधिकारी के साथ आबकारी के एक सिपाही को रंगे हाथों रिश्वत लेते पकड़ा है. साथ ही एसीबी अधिकारियों ने आबकारी सिपाही द्वारा आबकारी निरीक्षक के नाम पर रिश्वत बटोरने को लेकर निरीक्षक को भी आरोपी बनाया है.
 
टीम की कारवाई के बाद घमूड़वाली थानाधिकारी घूकर सिंह ने थाने में ही हंगामा खड़ा कर दिया और एसीबी टीम पर अनावश्यक दबाव बनाने की कोशिश की. मामला शराब से जुड़ा हुआ है. एसीबी एएसपी रजनीश पूनिया ने बताया की परिवादी ने शिकायत की थी की शराब ठेकों का संचालन सुंचारु रूप से होने देने के लिए थानाधिकारी घूकर सिंह व आबकारी सिपाही सुनील की तरफ से मंथली बंदी की डिमांड की जा रही थी और बंदी नहीं देने पर नाजायज रूप से तंग  किया जा रहा था.
 
 
कार्यालय में मचा हड़कंप 
शिकायत का सत्यापन करवाया गया तो आरोप सही पाया गया. इस पर एसीबी बीकानेर की टीम ने कारवाई करते हुए थानाधिकारी घूकर सिंह को घमूड़वाली थाने में दस हजार व आबकारी सिपाही सुनील को जिला आबकारी कार्यलय में 15 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा. 
 
एसीबी कार्रवाई के बाद जिला आबकारी कार्यालय में हड़कंप मच गया और अधिकारी-कर्मचारी अपनी सीट छोड़कर गायब हो गए. उधर रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़े जाने के बाद घमूड़वाली थानाधिकारी घूकर सिंह ने एसीबी की कारवाई से बचने के लिए टीम के अधिकारियो पर दबाव बनाने की कोशिश की. यहीं नहीं थानाधिकारी ने टीम द्वारा बनाई गयी फर्द पर हस्ताक्षर करने से इंकार करते हुए आत्महत्या करने तक की धमकी देने लगे.