झाबुआ. मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले में संदिग्ध मौतों का सिलसिला बदस्तूर जारी है. झाबुआ जिले में इस घोटाले को कवर करने गए एक शीर्ष खबरिया चैनल के पत्रकार की शनिवार को संदिग्ध मौत हो गई. रिपोर्टर अक्षय सिंह की झाबुआ के पास मेघनगर में मौत हुई. मौत के कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है, जबकि सीएम श‍िवराज सिंह चौहान ने SIT जांच का भरोसा दिया है. अक्षय का शव मध्य प्रदेश से दिल्ली लाया जाएगा.

अक्षय पिछले चार दिनों से मध्य प्रदेश की अलग-अलग जगहों पर जाकर व्यापम घोटाला कवर कर रहे थे. तीन लोगों की टीम इस घोटाले पर स्पेशल रिपोर्ट तैयार करने मेघनगर गई थी. अक्षय शनिवार को नम्रता डामोर के परिजनों का इंटरव्यू लेने मेघनगर गए. साल 2012 में नम्रता डामोर का नाम व्यापम घोटाले में आने के बाद उज्जैन में रेल पटरियों के पास उनका शव संदिग्ध परिस्थ‍ितियों में बरामद किया गया. इस घोटाले से जुड़े अब तक 44 मौतों की बात सामने आ चुकी हैं जिनमें से 25 तो सीधे तौर पर आरोपी थे. 

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने पत्रकार अक्षय सिंह की मौत पर संवेदना प्रकट की. साथ ही उन्होंने कहा कि संवाददाता की मौत संदिग्ध है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अक्षय सिंह की मौत पर शोक व्यक्त किया.