नई दिल्ली : जाटों ने मांगें ने माने जाने पर संसद का घेराव करने की धमकी दी है और कहा है कि आंदोलन और तेज किया जाएगा. जाटों ने कहा है 20 मार्च को फिर से दिल्ली में धरना दिया जाएगा. 
 
कल यानी गुरुवार को जाटों ने आरक्षण की मांग को लेकर जंतर मंतर पर प्रदर्शन किया. धरने में हजारो की संख्या में जाट पहुंचे. जाट शिक्षण संस्थानों और नौकरियों में आरक्षण की मांग कर रहे हैं. जाट नेता यशपाल मलिक ने जबतक आरक्षण न मिल जाए तबतक संघर्ष जारी रखने का ऐलान किया है. 
 
 
कई जाट आंदोलनकारियों को संसद मार्ग पर पुलिस के बैरिकेट तोड़ने का प्रयास करने के बाद हिरासत में लिया गया है. धरने से जाटों को भारी नुकसान हुआ है. पुलिस ने सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए थे. जंतर मंतर पर धरने में हरियाणा, दिल्ली, यूपी, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, राजस्थान और मध्यप्रदेश से जाट समुदाय के लोगों ने हिस्सा लिया. 
 
आंदोलन का नेतृत्व कर रहे अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष यशपाल मलिक ने बताया कि जाट समुदाय के सदस्य आरक्षण को लेकर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को एक ज्ञापन सौंपेंगे.