नई दिल्ली. कांग्रेस नेता अजय माकन ने छत्तीसगढ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह पर आरोप लगाया है कि रमन के कार्यकाल में हजारों करोड़ रुपए का चावल घोटाला हुआ है. अजय माकन ने इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एसआइटी से करवाने की बात कही. माकन ने रमन सिंह के इस्तीफे की मांग की. उन्होंने कहा कि रमन सिंह की पत्नी और साली को भी पीडीएस सिस्टम के तहत गलत तरीके से लाभ पहुंचाया गया. 
 
कांग्रेस ने आपूर्ति विभाग के एक अधिकारी गिरीश शर्मा की डायरी से मिली जानकारी का हवाला देते हुए बीजेपी सरकार पर यह आरोप लगाया है. हालांकि, इस डायरी के अलावा भी कुछ दस्तावेजों के आधार पर वित्तीय अनियमितताओं की जांच चल रही है. माकन ने डायरी पेश करते हुए आरोप लगाया कि 16-16 करोड़ रुपए का अवैध लेन-देन दिल्ली, नागपुर और लखनऊ में भी किया गया. माकन ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि इसमें सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एसआईटी जांच हो.’ 

गौरतलब है कि रमन सिंह सरकार ने साल 2007 में एक रुपए प्रति किलो के हिसाब से सूबे के 42 लाख परिवारों को 35 किलो चावल देने की योजना शुरू की थी. इस कारण रमन सिंह छत्तीसगढ के सुदूर व ग्रामीण इलाकों में चाउर वाले बाबा के रूप में भी पुकारे जाते हैं. आपको बता दें कि नागरिक आपूर्ति निगम के चावल घोटाले में पिछले कुछ महीनों में 17 अफसरों को गिरफ्तार किया गया था और इसमें से अधिकांश अभी भी जेल में हैं.