चेन्नई: शशिकला नटराजन के समर्पण के बाद बुधवार को उन्हें बैंगलुरू में परापन्ना अग्रहारा सेंट्रल जेल भेज दिया गया है. अब सब की निगाहें राज्य के नये मुख्यमंत्री के शपथ ग्रहण को लेकर अब सबकी नजर राज्यपाल सी विद्यासागर राव पर हैं. वहीं दूसरी ओर  शशिकला कैंप के नेता और एआईएडीएमके विधायक दल के नेता पलनीसामी ने सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है. 
 
 
इतना ही नहीं शशिकला खेमे की तरफ से यह उम्मीद भी जताई जा रही है कि गुरुवार को राज्‍यपाल उनको सरकार बनाने के लिए आमंत्रित कर सकते हैं. पलानीस्‍वामी के साथ राजभवन पहुंचे मत्स्य पालन मंत्री डी जयाकुमार ने दावा करते हुए कहा है कि उनके पास 124 विधायकों का समर्थन है.  
 
बैठक के बाद डी जयाकुमार ने कहा कि राज्यपाल को पार्टी विधायक दल के नेता पलानीस्वामी का समर्थन कर रहे विधायकों की सूची सौंपी गई है.  उन्होंने बताया कि राज्यपाल ने भी सूची पर विचार करने को कहा है और हमें भी पूरा भरोसा है कि लोकतंत्र की रक्षा होगी. जयाकुमार ने आगे कहा कि पलानीस्वामी के साथ अधिकतर विधायकों का समर्थन है यह बात भी उन्होंने राज्यपाल को बताई है. साथ ही यह भी कहा है कि इतने विधायकों के समर्थन के बाद उन्हें सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया जाना चाहिए. 
 
 
वहीं गवर्नर की ओर से इस पर अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. दूसरी ओर  पन्‍नीरसेल्‍वम ने भी बुधवार को राज्यपाल से मुलाकात कर बहुमत का दावा पेश करते हुए मौका दिए जाने की मांग की है.  बता दें कि तमिलनाडु में राज्य के पूर्व सीएम ओ पन्नीरसेल्वम और एआईएडीएम के महासचिव शशिकला के बीच जंग चल रही थी. पन्नीरसेल्वम के सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद उन्होंने कहा था कि उनसे जबरदस्ती इस्तीफा लिया गया है. इसके बाद दोनों ही सीएम पद के लिए दावा पेश कर रहे थे. अब उन्हें पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से बर्खास्त भी कर दिया गया है.
 
इस बीच आय से अधिक संपत्ति मामले में सुप्रीम कोर्ट ने शशिकला को चार साल की सजा सुनाई गई है. सजा पूरी होने के बाद शशिकला छह सालों तक चुनाव नहीं लड़ सकती हैं. उनके साथ दो और लोगों को दोषी पाते हुए सजा सुनाई गई है.