बीजिंग. चीन सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने पहली बार भारतीय मीडिया को न्योता देते हुए अपने व्यापक आधुनिक हथियारों को दिखाया. साथ ही भारत के स्वदेश निर्मित मुख्य युद्धक टैंक अर्जुन की चीनी सेना के एक शीर्ष अधिकारी ने सराहना करते हुए इसे भारतीय परिस्थितियों में बहुत अच्छा बताया. भारतीय पत्रकार चीनी सरकार से जुड़े ऑल चाइना जर्नलिस्ट एसोसिएशन के न्योते पर आमंत्रित किये गए थे.

बेहतर हुए सैन्य संबंध का संकेत देते हुए पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने आंगतुक भारतीय पत्रकारों की एक टीम के लिए मुख्य सैन्य संस्थाऩ एकेडमी ऑफ आरर्मर्ड फोर्सेज इंजीनयरिंग के दरवाजे खोल दिए, जो सालाना 6,000 कैडेट को प्रशिक्षण देता है. भारतीय पत्रकारों को यहां पहली बार एकेडमी में चीन के प्रमुख जंगी टैंक 96A, एंटी टैंक मिसाइल्स लॉन्चर T-89, बख्तरबंद गाड़ियां देखने को मिलीं. 

यह पीएलए के अधिकारियों को बख्तरबंद यांत्रिक शक्तियों के बारे में डिप्लोमा देने वाले 16 संस्थानों में शामिल है. यह पीएलए के कैडेट को प्रशिक्षण देने के अलावा खासतौर पर विभिन्न दक्षिण एशियाई देशों और विदेशी कैडेट को भी प्रशिक्षण मुहैया करता है. 

एजेंसी