नई दिल्ली. राजपथ पर इंटरनेशनल योग दिवस की सफलता से खुश सरकार अब संस्कृत को भी इंटरनेशलन मंच पर ले जाने की तैयारी कर रही है. खबर है कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की अगुवाई में भारत से 250 संस्कृत विद्वान थाइलैंड की राजधानी बैंकॉक में विश्व संस्कृत सम्मेलन में शिरकत कर सकते हैं.

सुषमा इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि होंगी. इस मौके पर वह संस्कृत में ही भाषण देंगी. संस्कृत सम्मेलन 1972 में दिल्ली में हुआ था. हालांकि अटल बिहारी वाजपेयी वाली एनडीए के समय में भी यह दो बार हो चुका है. इस बार भारतीय टीम में आरएसएस की संस्था संस्कृत भारती की 30 सदस्य की टीम भी इसमें शामिल होने जा रही है.