चंडीगढ़. बोर्ड परीक्षाओं का दौर कुछ ही दिनों बाद शुरू होने वाला है.  कई छात्रों ने अपने पढ़ाई का टाइम टेबल भी बना लिया है. लेकिन इसके साथ ही उनके ऊपर ज्यादा से ज्यादा नंबर पाने का दबाव भी बढ़ गया है.
दरअसल जनवरी से लेकर मार्च तक का समय पढ़ाई के लिए बहुत अच्छा माना जाता है. ठंडे मौसम की वजह से सेहत भी ठीक रहती है और दिमाग के काम करने की क्षमता भी बढ़ जाती  है.
इस समय में पढ़ाई स्ट्रेटजी बनाकर की जानी चाहिए. लेकिन इसका कतई ये मतलब नहीं है कि कोई भी देश-दुनिया से पूरी तरह अलग हो जाए और सिर्फ किताबों में आंखें गड़ाए बैठा रहे.
क्या बनाएं स्ट्रेटेजी और कैसे करें तैयारी
1- जनवरी के महीने में पूरे कोर्स को निपटा दें. 
2- जो विषय या सवाल ज्यादा कठिन लगते हैं उन पर ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ कर दें मतलब उन पर जनवरी के महीने में अच्छी तरह से समझ लें.
3- दोपहर के समय गणित के सवालों का अभ्यास करें. इसके अलावा फिजिक्स और कमेस्ट्री के न्यूमेरिकल का भी अभ्यास करें.
4- जब गणित, साइंस से दिमाग बोझिल होने लगे तो हिंदी, इतिहास, सामाजिक विज्ञान विषयों को अध्ययन करें.
5- सेहत का विशेष ध्यान रखें. शाम को थोड़ी देर, कसरत करना न भूलें. इससे शरीर और दिमाग को ऊर्जा मिलती है.
6- विषयों को रटने के बजाए समझने की कोशिश करें और उनका लिखकर अभ्यास करें.
7- जनवरी के ही महीने में सभी नोट्स तैयार कर लें ताकि उनका रिवीजन के समय काम आ सके.
8- नोट्स में बनाते समय तय कर लें कि हमें किन फैक्टस को परीक्षा में लिखना है और उन्हीं को फोकस करें.
9- ध्यान रहे जनवरी का महीना बहुत महत्वपूर्ण है इसी महीने सभी नोट्स बना डालें.
10- ऐसा कहीं नियम है नहीं कि सुबह 4 बजे ही उठकर पढ़ना है और इस चक्कर में जल्दी उठकर पूरा दिन आलस्य में पड़े रहें. लेकिन इस समय कम से कम 7-10 घंटा तो पढ़ना चाहिए.
11- लेकिन इकट्ठा 7-10 घंटे बैठने की जरूरत नहीं है. इसके लिए टाइम टेबल बना लें और 3 से 4 घंटों का अलग-अलग समय तय कर लें.
12- अगर रात में देर तक पढ़ने का प्लान है तो हल्का खाना खाएं और खाने के तुरंत बाद थोड़ा टहलें जरूर.