नई दिल्ली. दिल्ली सरकार द्वारा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनकी सरकार का महिमामंडन करने वाले नए टीवी विज्ञापन पर बीजेपी ने तीखा हमला किया है. बीजेपी के अलावा कांग्रेस और केजरीवाल के पुराने साथियों ने भी विज्ञापन पर सवाल खड़े कर दिए हैं. विज्ञापनों को सुप्रीम कोर्ट के आदेश का ‘उल्लंघन’ करार देते हुए बीजेपी ने धमकी दी है कि अगर इसे तुरंत नहीं हटाया गया, तो वह सुप्रीम कोर्ट जाएगी.

बीजेपी ने एक बयान जारी कर बताया कि हालांकि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का चेहरा नहीं दिखाया जा रहा रहा है, लेकिन बार-बार उनका नाम लेकर उन्हें ‘गरीबों का मसीहा’ बताया जा रहा है. वहीं अन्य दल के नेताओं, प्रशासनिक अधिकारियों, मीडिया को खलनायक की तरह पेश किया जाना सुप्रीम कोर्ट के आदेश का घोर ‘उल्लंघन’ है.

TV ad by Delhi Government ! Do Watch, and Share.

Posted by Aam Aadmi Party on Thursday, June 18, 2015

विज्ञापन की लागत सार्वजनिक करें केजरीवाल

केजरीवाल के पुराने सहयोगी प्रशांत भूषण ने शुक्रवार को अपने कई ट्वीटों में कहा कि यह विज्ञापन धन के भद्दे दुरुपयोग और केजरीवाल की अपरिपक्वता को दर्शाता है. उन्होंने कहा कि यह टीवी विज्ञापन सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले का भी उल्लंघन करता है, जिसमें व्यक्ति केंद्रित प्रचार के लिए सरकारी पैसे के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाया गया है.

भूषण ने मांग की है कि इस विज्ञापन में आई लागत को दिल्ली सरकार सार्वजनिक करे और सरकारी पैसे से व्यक्ति विशेष का महिमामंडन बंद करे. साथ ही उन्होंने इस विज्ञापन को महिला विरोधी भी करार दिया. आपको बता दें कि आम आदमी पार्टी की सरकार ने हाल में टेलीविजन चैनलों पर विज्ञापन देकर बताया है कि कैसे उसने दिल्ली में प्रशासन में सुधार किया है.