गुवाहाटी. असम के उदालगुड़ी जिले में एक दैनिक समाचार पत्र के लिए काम कर रहे पत्रकार को गुरुवार को आतंकवादियों के एक समूह ने गोली मार दी. 35 वर्षीय प्रशांत कुमार को हथियारबंद लोगों ने जिले के खैराबाड़ी इलाके से गुरुवार की शाम अपहरण कर लिया था.

पुलिस के अनुसार आतंकवादियों की पहचान नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट के शांति वार्ता विरोधी धड़े के सदस्यों के रूप में हुई है. पीड़ित पत्रकार ‘असमिया प्रतिदिन’ नाम के समाचार पत्र के साथ काम करता है. पुलिस के अनुसार आतंकवादियों ने उन्हें मृत समझ लिया होगा और उसे छोड़कर भाग गए होंगे. कुछ गांव वालों ने बाद में उन्हें देखा और स्थानीय अस्पताल में ले गए. गोली प्रशांत के कंधे में लगी थी, हालांकि अब उनकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है.

इसी बीच, जर्नलिस्ट एक्शन कमेटी और जर्नलिस्ट फोरम असम ने राज्य के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई से भी हमलावरों के खिलाफ सख्त उठाने के लिए कहा. इससे पहले यूपी में पत्रकार जगेंद्र सिंह को जिंदा जलाने का मामला प्रकाश में आ चुका है. जगेंद्र मामले में अखिलेश सरकार में मंत्री राममूर्ति वर्मा, इंस्‍पेक्टर श्रीप्रकाश राय सहित कई लोग आरोपी हैं. इन लोगों के खिलाफ एफआईआर में मर्डर, आपराधिक साजिश, धमकाने और अशांति फैलाने के इरादे से बेइज्जत करने जैसी धाराओं का उल्लेख है.

IANS