मोहली : नोटबंदी के बाद से नए नोट अभी पूरी तरह से मार्केट में आए भी नहीं हैं कि पंजाब में 2000 के करीब 3 करोड़ नकली नोटों को छापने का एक बड़ा मामला सामने आया है. हैरानी की बात तो ये है कि इनमें से 2 करोड़ रुपये खर्च कर बाजार में चला भी दिए गए हैं.
 
मामला पंजाब के मोहाली का हैं. जहां 21 साल के स्टूडेंट अभिनव वर्मा और उसकी 20 साल की कजिन विशाखा वर्मा ने इस वारदात को अंजाम दिया है. इन दोनों भाई-बहन को 2000 के 42 लाख नकली नोटों के साथ पुलिस ने पकड़ा है. दोनों ने मिलकर एक स्कैनर की मदद से 2000 के करीब 3 करोड़ कीमत के नकली नोट छाप लिए. छापे गए इन नोटों में से करीब 2 करोड़ के नोट मार्केट में चला देने में भी दोनों कामयाब हो गए.
 
ब्लैकमनी को व्हाइट
दरअसल,  ये दोनों 500 और 1000 के पुराने नोटों की ब्लैकमनी को व्हाइट करते और लोगों से इसके बदले 30 फीसदी कमीसन वसूल करते. लोगों को दी जाने वाली नोटों की गड्डियों में ऊपर के दो नोट असली होते ताकी किसी को भी शक न हो. 
 
लग्जरी गाड़ी में वारदात को अंजाम
पुलिस के मुताबिक उन्हें कई दिनों से इस बात की जानकारी मिल रही थी कि कोई युवक-युवती लग्जरी गाड़ी में ब्लैक मनी को व्हाइट करने का काम कर रहे हैं. जिसके बाद पुलिस ने उन्हें 42 लाख की जाली करंसी के साथ दोनों भाई बहन और एक बिचौलिए को रंगे हाथों पकड़ लिया. जब इनको पकड़ा गया तब वे लालबत्ती लगी ऑडी गाड़ी में 42 लाख रुपये के नकली नोट लेकर जा रहे थे. इस पैसे का इस्तेमाल ब्लैकमनी को व्हाइट करने में होना था. 
 
पुलिस के मुताबिक 2 करोड़ के नकली नोट मार्केट में जा चुके हैं. पुलिस ने फिलहाल दोनों भाई-बहनों से समेत एक बिचौलियो को हिरासत में ले लिया है और नकली नोटों, स्कैनर और दूसरे उपकरणों को भी कब्जे में ले लिया है. इसके अलावा पुलिस उन लोंगो की भी तलाश कर रही है जिन्होंने पैसे बदलवाए हैं.