पटना : बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की पत्नी राबड़ी देवी ने आपत्तिजनक बयान दिया है. नोटबंदी पर समर्थन से गुस्साई राबड़ी देवी ने कहा कि सुशील कुमार मोदी जी नीतीश कुमार को अपने घर ले जाएं और अपनी बहन से शादी करा दें.
 
राबड़ी के इस बयान के बाद से बिहार में बीजेपी कार्यकर्ताओं में गुस्सा है. इसके साथ ही इस बात से भी अंदाजा लगाया जा सकता है नोटबंदी पर नीतीश के समर्थन से आरजेडी नेता किस कदर बौखला गए हैं. आपको बता दें कि राबड़ी देवी विधानमंडल की कार्यवाही में हिस्सा लेने पहुंची थीं वहीं पर वह नोटबंदी के खिलाफ नारेबाजी और प्रदर्शन में हिस्सा ले रही थीं.  
 
बिहार के पूर्व सीएम ने कहा वह काले धन के खिलाफ हैं लेकिन नोटबंदी का समर्थन नहीं करती हैं. इससे आम जनता को परेशानी हुई है. बीजेपी को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए. हम तब तक सदन को नहीं चलने देंगे. राबड़ी देवी ने कहा कि विपक्षी कहते हैं कि मेरे घर में काला धन है. सीबीआई की जांच बैठाई गई है. लेकिन जब कुछ होगा तो मिलेगा. 
 
इस मौके पर बीजेपी पर निशाना साधते हुए राबड़ी ने कहा कि बीजेपी ने नोटबंदी के पहले ही करोड़ो की जमीन बिहार में खरीदी हैं. बीजेपी को इसका हिसाब देना होगा.  राबड़ी ने हर किसी के खाते में 15 लाख रुपए देने वाली बात भी याद दिलाई और पूछा कि कहां गया वह रुपया.
 
आपको बता दें कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार खुलकर नोटबंदी का समर्थन कर रहे हैं. हालांकि उन्होंने साफ कहा कि वह इस कदम का समर्थन कर रहे हैं न कि बीजेपी का. लेकिन नीतीश के इस समर्थन से विपक्ष में काफी गुस्सा है. इतना ही नहीं नीतीश ने 28 नवंबर को हुए भारत बंद का भी समर्थन नहीं किया था.
 
जब ललन सिंह को कहा था नीतीश का ‘साला’
इससे पहले भी राबड़ी देवी आपत्तिजनक बयान देकर मानहानि का मुकदमा झेल चुकी हैं. उन्होंने जेडीयू नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह को एक बार नीतीश कुमार का साला कह दिया था जिसके बाद ललन सिंह ने राबड़ी के खिलाफ मानहानि का केस कर दिया था.