नई दिल्ली. फर्जी डिग्री के मामले में फंसे दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर को दिल्ली पुलिस बिहार ले गई है. दिल्ली पुलिस तोमर को मुंगेर के विश्वनाथ सिंह इंस्टीट्यूट ऑफ लीगल स्टडी कॉलेज और भागलपुर की तिलका मांझी यूनिवर्सिटी ले जाएगी, जहां तोमर के सामने उनकी डिग्री का वेरिफिकेशन किया जाएगा.

इससे पहले तोमर को दिल्ली पुलिस फैजाबाद के केएस साकेत पीजी कॉलेज और आरएमएल अवध विश्वविद्यालय भी ले गई थी, जहां उनकी बीएससी की डिग्री का वेरिफिकेशन कराया गया था. जांच के दौरान तोमर पुलिस को विश्वविद्यालय की फिजिक्स लैब भी नहीं दिखा सके और न ही उन शिक्षकों को पहचान सके, जिन्होंने 1987-88 के बीच बीएससी के छात्रों को पढ़ाया था.

पुलिस ने कहा कि तोमर अपनी कक्षा, फिजिक्स लैब और बाथरूम नहीं पहचान पाए. फैजाबाद में जांच ने कुल मिलाकर पुलिस के इस शुरुआती निष्कर्ष की पुष्टि की कि तोमर की डिग्रियां फर्जी हैं. तोमर को गुरुवार को साकेत की सेशन कोर्ट से कोई राहत नहीं मिली. कोर्ट ने उनकी अंतरिम जमानत की सुनवाई 16 जून के लिए टाल दी और पुलिस को कहा है कि वो इस मामले की सघन जांच करे.

IANS