नई दिल्ली/गुवाहाटी. असम के दस जिलों में बाढ़ ने जबर्दस्त तबाही मचाई है.यहां राज्य से सटें पहाड़ी इलाकों में लगातार भारी बारिश हो रही है जिसके कारण पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश और मेघालय में भी बाढ़ की चेतावनी जारी कर दी गई है.

 ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियां उफान पर है जिससे नदी के आसपास रहने वाले लोगों के लिए परेशानी बढ़ गई है. बाढ़ से करीब 80 हजार से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं. बाढ़ से असम के बरपेटा, सोनितपुर, धेमाजी, लखीमपुर तिनसुकिया, दरंग,नलबाड़ी, गोआलपाड़ा, जोरहाट और कामरूप के इलाके मुख्य रुप से प्रभावित हुए हैं. 

उत्तर भारत में गर्मी की मार

एक ओर असम जहां बाढ़ की चपेट में है वहीं इस साल लू के विभिन्न मामलों में अब तक 2,300 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. इस पर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-बंबई (आईआईटी-बी) द्वारा किए गए एक अध्ययन के मुताबिक, भविष्य में लू का प्रकोप लंबा खिंचेगा और यह अधिक तीव्र होगा.
शोध पत्रिका रीजनल एनवॉरमेंट चेंज में प्रकाशित शोध आलेख में कहा गया है कि दक्षिण भारत और पूर्वी व पश्चिमी तट पर भी भीषण गर्मी पड़ेगी और इसके कारण लू लगने से होने वाली मौतों की संख्या बढ़ेगी.