गोरखपुर. गोरखपुर जिला जेल में कैदियों और जेलरक्षकों के बीच झड़प के बाद माहौल बहुत तनावपुर्ण हो गया है. बता दें कि गोरखपुर जेल में चार दिन से तलाशी अभियान चल रहा था. आज( गुरुवार) सुबह जब जेल का फाटक खोला गया बंदियों ने जेलरक्षकों पर हमला कर दिया. कैदी तलाशी से नाराज चल रहे थे. 
 
तलाशी में कल यानी बुधवार को कैदियों के पास से 85 मोबाइल फोन बरामद किये गए थे.
आज सुबह कैदियों ने जमकर बवाल किया. जो जेलरक्षक तलाशी ले रहे थे कैदियों नें पहले उन्हें गालियां दीं फिर उनके साथ मारपीट की. इस घटना में कई बंदियों को चोट आई है और कई जेलरक्षक भी बुरी तरह घायल हो गए हैं. 
सख्ती से नाराज थे कैदी
बता दें की कैदी जेल प्रशासन से इसलिए नाराज थे क्योंकि उनके साथ बहुत सख्ती की जा रही थी. नाराज कैदियों ने जमकर नारेबाजी की. बंदीरक्षक राजेंद्र यादव की हालत बहुत गंभीर है और उन्हें मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया है. भारी संख्या में पुलिस के जवान जेल के अंदर पहुंच गए हैं. हालात इतने खराब थे की उसे काबू में करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े. जिलाधिकारी और एसएसपी भी वहां पहुंच गए हैं. उन्होने कैदियों से शांत रहने की अपील की है.
हालात अब भी काबू से बाहर
 हंगामा अभी भी चल रहा है और हालात पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है. जिलाधिकारी लगातार उनके संपर्क मे हैं और बातचीत कर रही हैं. जेल के बाहर लगातार गोलियों कि आवाज सुनाई दे रही है. स्थिति इतनी खराब थी की सिपाही जेल के अंदर जाने से भी डर रहे थे. कैदियों ने कहा है कि जेल प्रशासन की लापरवाही के बाद हमारे एक साथी की मौत हो गई. अधिकारियों का कहना है कि  स्थिति पर बहुत जल्दी काबू पा लिया जाएगा और जिनका भी दोष इसमें होगा  उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.