नई दिल्ली. अगर आप नियमित रूप से ड्रग्स का सेवन करते हैं तो आपको सावधान हो जाना चाहिए. हाल ही एक रिसर्च में पता चला है कि ऐसे लोग न सिर्फ स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के शिकार तो होते है बल्कि ऐसे लोगों की क्रिएटिव सोच में भी बहुत कमी आ जाती  हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
नीदरलैंड की लेडन यूनिवर्सिटी के साइक्लोजिस्ट माइकल कोवल ने एक रिसर्च की है. इस रिसर्च के दौरान उन्होंने 40 ऐसे लोगों को चुना जो नियमित रूप से ड्रग्स  का सेवन करते थे . कोवल ने बताया,’लोग ये मानते है कि ड्रग्स का इस्तेमाल करने से लोंगो की क्रिएटिव सोच बढ़ जाती हैं, जों की बिलकुल गलत है.’
 
उन्होंने आगे कहा कि रिसर्च के दौरान उन्होंने देखा कि ड्रग्स का इस्तेमाल करने वाले लोगो में ‘डोपामाइन’ नामक केमिकल सही से नहीं बन पाता, जो इंसान की नयी चीजो को सिखने की क्षमता के लिए बहुत आवश्यक है. 
 
रिसर्च के दौरान एक और तथ्य सामने आया है, ड्रग्स का रोजाना इस्तेमाल करने वाला व्यक्ति अपनी आंखें दिन में बार-बार झपकाता है. जो इस बात को प्रमाणित करता है उस व्यक्ति में ‘डोपामाइन’ की कमी है.