पटना. पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीच ‘आम-लीची’ के झगड़े के कारण सुखिर्यों में रहा पटना एक अणे मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास आज वहां शराब की खाली बोतल मिलने के कारण चर्चा में है.
  
गौरतलब है कि फरवरी महीने में मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने के बाद भी मांझी मुख्यमंत्री आवास में रह रहे हैं. जबकि नीतीश वर्तमान में 7 सकुर्लर रोड स्थित एक सरकारी आवास में रह रहे हैं. मांझी की बैठक के कवरेज हेतु पहुंचे मीडियाकर्मियों को उसके आवास परिसर में शराब की खाली बोतल दिखी और उन्होंने उसे कैमरे में कैद कर लिया. इसपर वहां मौजूद हिंदुस्तान अवामी मोर्चा :हम: के कार्यकर्ता और मांझी समर्थक मीडियाकर्मियों से उलझ पड़े और उनपर ही दोषारोपण शुरू कर दिया.
 
शराब की उक्त खाली बोतल मांझी और उनके परिवार के आवास वाले कमरों के पीछे जमीन पर पड़ी हुई थी. बाद में मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए मांझी ने परिसर में शराब की खाली बोतलें मिलने को अपनी सुरक्षा में चूक बताया. मांझी ने पत्रकारों से कहा, ‘‘यदि कोई अपने पॉकेट में बोतल लेकर यहां प्रवेश कर सकता है तो बम भी लेकर आ सकता है.’’ अपने आवास पर तैनात सुरक्षा बलों पर ड्यूटी में लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए मांझी ने सवाल किया, परिसर में कोई शराब की बोतल लेकर प्रवेश कर गया, ऐसे में वे क्या कर रहे थे?
 
मांझी ने कहा, ‘‘मैं कई बार कह चुका हूं कि मेरी जान को खतरा है, लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इसमें जानबूझकर ढिलाई बरत रहे हैं.’’ उन्होंने परिसर में शराब की खाली बोतल मिलने को असामाजिक तत्वों की हरकत बताते हुए आरोप लगाया कि नीतीश कुमार के किसी ‘दलाल’ ने ऐसा करके उसे प्रचारित करने का काम किया है.

IANS