गुड़गांव. गुड़गांव अब गुरुग्राम के नाम से जाना जाएगा. केन्द्र सरकार ने गुड़गांव का नाम बदलकर गुरुग्राम करने की हरियाणा सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. गृह मंत्रालय 22 सितम्बर को हरियाणा सरकार को पत्र लिखकर बताया कि गुड़गांव का नाम गुरुग्राम करने पर उन्हें कोई आपत्ति नहीं है. सीएम मनोहर लाल खट्टर ने यह जानकारी पंचकुला में राज्य स्तरीय ‘स्वर्ण जयंती समारोह समिति’ की पहली बैठक की अध्यक्षता करने के बाद दी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने बताया कि गुड़गांव के नाम को अब गुरुग्राम शहर और जिले दोनों के लिए किया जाएगा. हरियाणा सरकार ने मेवात का नाम बदलने के लिए भी केंद्र को प्रस्ताव भेजा है. उसका नाम बदलकर नूंह रखने की मांग की गई है, लेकिन अभी इस पर केन्द्र सरकार की हरी झंडी मिलनी बाकी है. सरकार का दावा है कि मेवात के लोग यह मांग कर रहे हैं. 
 
महाभारत काल में द्रोणाचार्य को गुरु दक्षिणा में मिला था 
दिल्ली से सटा गुरुग्राम हरियाणा का कॉरपोरेट हब है. माना जाता है कि गुड़गांव नाम गुरु द्रोणाचार्य से निकला है. गुरु द्रोणाचार्य महाभारत में धनुर्विद्या के महारथी थे और इन्होंने पांडवों और कौरवों को शिक्षा दी थी. कहा जाता है कि इस गांव को पांडवों द्वारा गुरु द्रोणाचार्य को ‘गुरु दक्षिणा’ के रूप में दिया गया था इसलिए इसे गुरुग्राम के तौर पर जाना जाने लगा. पर समय के साथ यह नाम बिगड़कर गुड़गांव हो गया. 
 
अप्रैल में आया था नाम बदलने का प्रस्ताव
हरियाणा सरकार ने इसी साल अप्रैल में गृह मंत्रालय को अनुरोध पत्र भेजा था. सरकार के नियमानुसार गांव, कस्बों और जिलों के नाम में बदलाव केंद्रीय गृह मंत्रालय की निगरानी में गठित कमेटी की स्वीकृति के बाद ही बदला जा सकता है.