कोटा. बाप -बेटा के रिश्ते को तार-तार करती ये कहानी आपको हैरान कर देगी. रावतभाटा के एक बाप ने अपने बेटे को इसलिए मार डाला क्योंकि वह अपने बाप को मां के साथ जबरदस्ती करने से रोक रहा था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक रावतभाटा में नानूराम भील अपने परिवार के साथ रहता था. 24 सितम्बर को नानूराम शराब पीकर आया और पत्नी कालीबाई को गालियां देने लगा. ऐसा वो आमतौर पर करता था. मुंह से शराब की दुर्गंध आ रही थी, जुबान पर गालियां थीं, फिर भी वह पत्नी के साथ फिजिकल रिलेशन की बात करने लगा.पत्नी कालीबाई इससे खासी खफा थी, लेकिन पति के जबरदस्ती करने पर उसके आगे कुछ नहीं कर पा रही थी.वह चीखती रही, लेकिन नानूराम नहीं मान रहा था.
 
मां की चीख सुन कर बेटा जाग गया. बेटे प्रहलाद ने जब पिता की इस हरकत को देखा, तो नानूराम से रहा नहीं गया. वह बेटे से लड़ने लगा तो मां को बचने का मौका मिल गया. वह अपनी बेटी को उठाकर घर से बाहर निकल गई. इस बीच पिता और आक्रोषित हो गया और उसने डंडा उठाया और बेटे को मारा. मार के बाद प्रहलाद भील लहुलुहान होकर जमीन पर गिर पड़ा.
 
इसके पिता नानूराम ने रात को ही प्रहलाद का शव खेत में बने नाले में डाल दिया. सुबह जब काली बाई ने बेटे प्रहलाद के बारे में पूछा तो नानूराम ने झूठ बोला कि वह तो अपनी नानी के घर चला गया. काली बाई दूसरे दिन जब अपने पीहर गई तो उसे प्रहलाद वहां नहीं मिला.
 
रावतभाटा लौटकर कालीबाई ने प्रहलाद के मिसिंग होने की रिपोर्ट दर्ज करवाई. इसी बीच खेत के पास अजीब सी बदबू आने लगी तो गांव वालों ने पुलिस को इसकी सूचना दी. पुलिस वहां पहुंच कर जांच पड़ताल की जिसके बाद साफ हो गया कि बदबू प्रहलाद के लाश की थी.