जम्मू. जम्मू में गुरुवार को सिख प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हुई झड़प के बाद हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं. तनावग्रस्त जम्मू शहर में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू जारी है. अधिकारियों ने जम्मू क्षेत्र के पांच जिलों में सभी शिक्षण संस्थानों को बंद रखने के आदेश दिए हैं.  पुलिस अधिकारी ने बताया कि सतवारी और मिरियान साहिब पुलिस थाने के अंतर्गत मौजूद इलाके में गुरुवार को लगाया गया अनिश्चितकालीन कर्फ्यू जारी रहेगा.

प्रदर्शनकारियों ने पुलिस से एके-47 छीना

जम्मू के जिलाधिकारी सिमरनदीप सिंह ने कहा कि शहर के सभी हिस्से में धारा 144 लागू किया गया है. वहीं प्रदर्शनकारियों ने गुरुवार को दिगियाना इलाके में विशेष पुलिस अधिकारी से एके-47 राइफल छीन लिया था. पुलिस दोषी को पकड़ने और हथियार को जब्त करने की कोशिश कर रही है. इससे पहले सतवारी इलाके के गादिगढ़ में सिख प्रदर्शनकारियों के साथ सुरक्षाकर्मियों की हिंसक झड़प के दौरान पुलिस गोलीबारी में जगजीत सिंह नामक सिख युवक की मौत हो गई थी, जिसके बाद सेना को शांति स्थापित करने के लिए बुलाया गया था.

प्रदर्शनकारी उस पुलिस अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं, जिसने बुधवार को सिख आतंकादी जरनैल सिंह भिंडरवाले की तस्वीर वाले पोस्टर को हटा दिया था. दूसरी ओर, सहायक उप निरीक्षक अरुण कुमार शर्मा पर बुधवार को एक सिख युवक ने चाकू से हमला किया. यह हमला उस वक्त हुआ जब वह प्रदर्शनकारियों को हटा रहे थे.

जानिए क्या है पूरा विवाद

इस बीच, मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद, उप मुख्यमंत्री निर्मल सिंह और सत्तारूढ़ पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने युवक की मौत पर संवेदना जाहिर की और सभी समुदायों में शांति तथा सौहार्द बनाए रखने की अपील की. गौतलब है कि छह जून को जम्मू में ऑपरेशन ब्लूस्टार की बरसी शहीद दिवस के तौर पर मनाने को लेकर जनरैल सिंह भिंडरावाला के पोस्टर हटाने का विवाद बुधवार को शुरू हुआ था. गुरुवार को सिख समुदाय और पुलिस के बीच तनातनी बढ़ी और हंगामे में चार पुलिस वाले भी घायल हो गए.