सवाईमाधोपुर. भूत-प्रेत के नाम पर जब किसी को प्र​ताड़ित किया जाता है, तो लोग पुलिस का सहारा लेते हैं लेकिन स्पेशल टास्क प्रोटेक्शन फोर्स (एसटीपीएफ) कार्यालय परिसर में पुलिसकर्मी खुद आत्मा से डर हुए हैं. 
 
ख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
यहां पुलिसकर्मी किसी अनजान साए के खौफ के चलते कार्यालय छोड़कर भाग गए हैं. दिन में भी जवानों और अधिकारी को अकेले कार्यालय जाने में डर लग रहा है. डरे हुए जवानोंं ने अधिकारियों से कार्यालय को बदलने की मांग भी की है. 
 
एसटीपीएफ पुलिस उपाधीक्षक सुरेशचंद मीणा व पुलिसकर्मी प्रेमचंद राजाराम के अनुसार 15 सितंबर की रात को करीब सवा दस बजे तीन-चार पुलिसकर्मी एसटीपीएफ कार्यालय परिसर में एक कमरे में बैठे हुए थे. इस दौरान एक पुलिसकर्मी बाहर चला गया. 
 
पलंग से उठाकर पटका
उन्होंने वापस आने पर देखा कि कॉन्स्टेबल चेतराम मीणा पलंग के नीचे पड़ा हुआ था. वह बेहद डारा हुआ था और आत्मा का साया दिखने की बात रहा था. उसका कहना था कि किसी ने उसे पलंग सेे उठाकर नीचे पटक दिया. 
 
कॉन्स्टेबल के पैर व हाथों में चोट के निशान थे. इस पर पुलिसकर्मियों के चिल्लाने पर वहां परिसर स्थित अन्य आवासों में रहने वाले वनाधिकारी व वनकर्मी एकत्र हो गए. उसे अस्पताल में भर्ती कराया. इससे पहले एक दिन पहले एक अन्य पुलिसकर्मी को भी चोटे आई थीं. 
 
सुरेशचंद मीणा ने बताया कि अगले दिन रात को चेतराम परिसर स्थित अपने घर पर था, लेकिन मध्य रात्रि के बाद वह कार्यालय में आकर गिरा. उसके शरीर पर सिंदूर लगा हुआ था. अंधेरे में वनकर्मियों ने उसकी पिटाई कर दी.