गोवा. गोवा में आयोजित इंडिया न्यूज़ और इंडिपेंडेंट पावर प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IPPAI) के कार्यक्रम महामंथन को शनिवार को आध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा ने संबोधित दिया. इस दौरान उन्होंने रामराज्य की वकालत करते हुए कहा कि रामराज्य से बेहतर कोई सिस्टम नहीं हो सकता.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
देश की बिजली पर दशा और दिशा पर आधारित इस कार्यक्रम में पवन सिन्हा ने अपने संबोधन की शुरुआत प्राचीन काल में देवताओं और दानवों के बीच हुए समुद्र मंथन से की. उन्होंने कहा, ‘प्राचीन काल से ही संसाधनों को लेकर विवाद होते आ रहे हैं. उस समय समुद्र में मौजूद संसाधनों के लिए देवताओं और दानवों के बीच समुद्र मंथन हुआ. आज भी वही स्थिति है. आज भी अरब सागर में मौजूद संसाधनों के लिए कई देश आमने-सामने हैं.’
 
 
उन्होंने आगे कहा कि धरती पर मौजूद संसाधन सीमित हैं, लेकिन इंसानों की इच्छाएं अनंत हैं इसलिए विवाद का होना स्वाभाविक है. भारत में मौजूद सोलर इनर्जी के कारण ही विदेशियों ने भारत की अपना रुख अख्तियार किया. इंसान को बड़े सपने देखने चाहिए और उसे पूरा करने के लिए हरसंभव प्रयास करनी चाहिए. आज की सबसे बड़ी जरूरत बिजली पानी और शिक्षा है.
 
भारत-पाकिस्तान के रिश्तोंं पर पवन सिन्हा जी ने कहा कि दोनों देशोंं के लोग परेशान हैं. हमें उनकी आवाज़ सुनने की जरुरत है. सभी लोगों को आत्म सम्मान से जीने का हक है.
 
 
बता दें कि गोवा में आयोजित इंडिया न्यूज़ और इंडिपेंडेंट पावर प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IPPAI) के कार्यक्रम का आज दूसरा दिन है. 22 सितंबर से गोवा में शुरू हुआ ये कार्यक्रम रेगुलेटर्स एंड पॉलिसी रिट्रीट 25 सितंबर तक चलेगा. स्मार्ट भारत की उम्मीदों पर आधारित इस कार्यक्रम की शुरूआत केंद्रीय राजमार्ग और जहाज़रानी मंत्री नितिन गडकरी ने की.