पाली. भारत में लिव-इन रिलेशनशिप को लेकर भले ही बहस चल रही हो लेकिन राजस्थान के गरासिया समुदाय के ऐसे रिश्तों की परंपरा हजार सालों से चली रही आ रही है.  इस समुदाय के लोगों का मानना है कि अगर किसी ने बच्चा पैदा करने से पहले शादी कर ली तो उनको बाद में बच्चा पैदा नहीं होगा. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
आपको बता दें कि गरासिया समुदाय के लोग राजस्थान के पाली, उदयपुर, सिरोह के अलावा गुजरात के कुछ इलाकों में बसे हैं जिनका कहना है कि ऐसी परंपरा उनके समाज में पिछले 1 हजार सालों चली आ रही है.

 
परंपरा के मुताबिक राजस्थान और गुजरात में दो दिन का विवाह मेला लगता है. जिसमें जवान लड़के और लड़कियां खुद एक दूसरे को पसंद करते हैं और फिर वहां से भाग जाते हैं. वापस आने पर कई महीनों तक साथ रहते हैं और इस बीच उनके शारीरिक संबंध भी बन जाते हैं और जब लड़की एक बच्ची की मां बन जाती है तो वह शादी करते हैं.
 
गरासिया समुदाय में इतना खुलापन है कि आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते हैं यहां पर यदि कोई महिलाए चाहे तो मेले में अपने लिए दूसरा पार्टनर भी चुन सकती है.

इसके लिए शर्त होती है कि मर्द को पहले वाले पार्टनर की तुलना में ज्यादा पैसा महिला को देना होगा.
 

इस परंपरा को निभाने में चक्कर में कई बार मां-बाप अपने बच्चों के साथ ही शादी करते हैं. कई बार बूढ़े होने पर भी शादी करते हैं. शादियां दूल्हे के घर में होती है और खर्चा भी वही लोग उठाते हैं.