आइजोल.  मिजोरम सरकार ने राजनीतिक नेताओं के खिलाफ कड़ा रुख अपनाते हुए राज्य के स्कूलों और कॉलजों में उनके भाषण पर रोक लगा दी है. अब कोई भी नेता राज्य के किसी भी स्कूल और कॉलेज में भाषण नहीं दे सकता है. सरकार ने इस संबंध में एक आदेश भी जारी किया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि दो हाल ही में मिजो नेशनल फ्रंट के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री जोरमथंगा को अलगाववादी आंदोलनों पर बातचीत के लिए दो कॉलेज में बुलाया गया था जिसके बाद सरकार ने यह आदेश जारी किया है.
 
आदेश में कहा गया है कि कॉलेज में नेताओं के भाषण से छात्रों की मानसिकता के साथ-साथ कॉलेज का भी माहौल खराब होता है. आदेश के मुताबिक ऐसा नहीं करने पर संबंधित कॉलेजों पर कार्यवाई की जाएगी.
 
वहीं सरकार के इस आदेश का विपक्षी पार्टियों और कई छात्र संघों ने कड़ा विरोध किया है और कहा है कि यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हमला है.