वाशिंगटन. आतंकवाद से निपटने के लिए रिपब्लिकन पार्टी से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका आने वालों से टिटमस टेस्ट लिए जाने की बात कही है. इसका मतलब यह है कि अगर डोनाल्ड ट्रम्प राष्ट्रपति का चुनाव जीतते हैं तो किसी को भी अमेरिका जाने के लिए पहले यह टेस्ट देना होगा.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
 ट्रंप के अनुसार इस टेस्ट के जरिये विचारधारा का टेस्ट होगा. उन्होंने इस बारे में कहा है कि  इस टेस्ट के जरिए यह जानने की कोशिश की जाएगी कि कौन अमेरिकी संविधान, विचारधारा, वैल्यू को मानता है और कौन नहीं. शीत युद्ध के समय भी हम विचारधारा का टेस्ट लेते थे. यह बातें ट्रम्प ने यंग्सटॉउन में एक भाषण के दौरान कहीं. 
 
ट्रम्प के भाषण से अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि यह टेस्ट सिर्फ प्रवासियों को देना होगा या पर्यटकों को भी इस से गुजरना होगा?