उना: उना में करीब 10 हजार दलितों ने मैला न ढोने और जानवरों को दफनाने जैसे काम न करने की शपथ ली है. साथ ही सरकार को चेतावनी भी दी है कि हर दलित परिवार को 5 एकड़ जमीन दी जाए. अगर उनकी ये मांग महीने भर में नहीं मानी गई तो पूरे देश में रेल रोको आंदोलन किया जाएगा.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दलितों को यह शपथ उनके आंदोलन की अगुवाई कर रहे जिग्नेश मेवाणी ने दिलाई. मेवाणी ने दलितों के समर्थन में प्रधानमंत्री मोदी के हाल में दिए गए बयानों को एक ‘नाटक’ करार दिया. ‘प्रधानमंत्री जब विकास यात्रा निकाल रहे थे तब गुजरात में 3 दलित युवकों पर पुलिस ने गोली चलाई. उन्होनें पूछा कि मोदी जी ने तब क्यों नहीं कहा कि ‘मुझ पर गोली चलाओ’.
 
इस दलित सम्मेलन में दलित-मुस्लिम भाई-भाई के नारे भी लगे और गुजरात के कई इलाकों से आकर मुसलमानों ने दलितों के साथ एकजुटता की घोषणा की. उना में दलित छात्र रोहित वेमुला की मां राधिका वेमुला ने भी इस दलित अस्मिता यात्रा के समापन समारोह में हिस्सा लिया. राधिका वेमुला ने ही यहां तिरंगा फहराया.