बाड़मेर. राजस्थान के बाड़मेर में मौलाना वलि मोहम्मद स्कूल में राष्ट्रगीत और राष्ट्रगान गाने की इजाजत नहीं हैं. स्कूल के प्रींसिंपल के मुताबिक इस्लाम वंदेमातरम गाने की इजाजत नहीं देता. आरोप है कि स्कूल में हिंदू बच्चों को जबरन कुरान का पाठ पढ़ाया जाता है. इस स्कूल में 250 बच्चे पढ़ते हैं जिनमें से 30 हिंदू परिवारों से हैं. वहीं स्कूल प्रशासन ने अपने ऊपर लगे आरोपों को गलत बताया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक यह स्कूल बाड़मेर के ‘पांडी की पार गांव’ में स्थित है जहां पढ़ने वाले हिंदू छात्रों को कुरान पढ़ने के लिए भी दवाब डाला जाता था. फिलहाल पुलिस इस मामले की जांच में लग गई है. स्कूल प्रशासन ने इस तरह के आरोपों से इनकार करते हुए स्कूल के हेडमास्टर मोहम्मद सिराज ने कहा कि हमने जांच टीम को पिछली बार मनाए गए स्वतंत्रता दिवस समारोह के फोटो दे दिए हैं.
 
 
जिले के कलेक्टर सुधीर कुमार शर्मा के आदेश के बाद एक टीम ने मौलाना वलि मोहम्मद स्कूल का दौरा किया है और इस मामले में स्कूल प्रशासन से पूछताछ कर स्कूल में स्वतंत्रता दिवस की तैयारियों का जायजा लिया. इसके बाद इस टीम ने कलेक्टर को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है.  
 
 
वहीं इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए राजस्थान के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने कहा है कि यह कोई देश विरोधी मामला नहीं है, यहां राष्ट्रगान गाया जाता है लेकिन वंदेमातरम को लेकर कुछ विवाद है. बाकि मामले की जांच चल रही है.