नई दिल्ली. शेषनाग के बारे में तो आपने सुना होगा, कहते हैं जब समंदर में शेषनाग का गुस्सा भड़कता है तो ऐसी तबाही आती है जो दुश्मन को बरबाद कर देती है. एक बार फिर शेषनाग का गुस्सा उबल रहा है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
जिसकी आग में ड्रैगन खाक हो सकता है. मतलब ये कि चीन के खिलाफ समंदर में सबसे बड़ी जंग का काउंट डाउन शुरू हो चुका है. अगर हम ये कहें कि समंदर में चीन के खिलाफ सबसे बड़े हमले का काउंटडाउन शुरू हो चुका है.तो शायद आपको यकीन न हो लेकिन पूरी दुनिया को अपनी दादागीरी से सताने वाले चीन पर अगले कुछ दिनों में कितनी बड़ी आफत टूटने वाली है.
 
साउथ चाइना सी में जिस जंग की आशंका से पूरी दुनिया डरी हुई है. अब उसके टलने की कोई सूरत नहीं दिखती क्योंकि चीन को सबक सिखाने के लिए स्प्रैटलिस आईलैंड्स पर एक साथ कई मिसाइलें गरजने को तैयार हैं. आपकी हैरानी तब और बढ़ जाएगी जब ये जानेंगे कि इस बार चीन को चुनौती देने की फैसला अमेरिका या फ्रांस जैसे किसी बड़े ताकतवर देश का नहीं बल्कि एक ऐसे मुल्क का है जो ताकत और हैसियत में तो चीन के मुकाबले कुछ भी नहीं पर उसके हौसले और हिम्मत की मिसाल दुनिया देती है.
 
कौन है यह देश जिसने स्प्रैटलिस आईलैंड्स पर चीन की तबाही का इतना बड़ा जखीरा जमा कर लिया है और क्या है चीन पर हमले का मास्टर प्लान ? ये सब बताएंगे इंडिया न्यूज के शो ‘मिसाइलों का महासंग्राम’. वीडियो पर क्लिक कर देखिए पूरा शो