नई दिल्ली. सवा सौ करोड़ के इस मुल्क में रोज़ाना हजारों मुसाफिर आते हैं. सदियों से हम कहते हैं अतिथि देवो भव, लेकिन कुछ मुसाफिर ऐसे होते हैं जो दिखते तो इंसान की तरह हैं लेकिन वो इंसानियत के दुश्मन होते हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
ऐसे इंसान की नज़र, उनके इरादे बेहद काले होते हैं. वो इंसानों का खून बहाते हैं 15 अगस्त के मौके पर एक बार फिर दहशतगर्दों ने दिल्ली को दहलाने की साजिश रची है, लेकिन उन्हें जवाब देने के लिए क्या है हमारी तैयारी देखिए इंडिया न्यूज के शो ‘हजार कैमरे में लाल किला’ ?