इलाहाबाद. राष्ट्रगान पर रोक लगाने वाले इलाहाबाद के एक स्कूल को जिला प्रशासन ने बंद करने का आदेश दिया है. साथ ही स्कूल प्रबंधक ज़िया-उल-हक़ को गिरफ्तार कर लिया गया है. बता दें कि ज़िया-उल-हक़ पर राष्ट्रद्रोह का केस चलेगा. जांच में ये भी पता चला कि 12 साल से बिना मान्यता के सरकार के नाक के नीचे ये स्कूल चल रहा था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
कैसे हुआ खुलासा ?
इलाहाबाद में एम. ए. कान्वेन्ट स्कूल की स्थापना 12 साल पहले हुई. दरअसल स्कूल में 12 साल से राष्ट्रगान गाने पर प्रतिबंध लगा हुआ है. ज़िया-उल-हक़ को राष्ट्रगान में भारत-भाग्य-विधाता से ऐतराज था.
 
 
मामले का खुलासा तब हुआ जब स्कूल की प्रिंसिपल सहित 8 टीचर्स ने स्कूल में राष्ट्रगान पर बैन के कारण इस्तीफा दे दिया. मामला उजागर होने के बाद प्रशासन ने जांच के आदेश दे दिए है. जिसके बाद जांच प्रशासन ने स्कूल प्रबंधक ज़िया-उल-हक़ को गिरफ्तार कर लिया और स्कूल को बंद करने का आदेश दिया.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
जिला प्रशासन ने की जांच
जिला प्रशासन का कहना है कि मामले की जांच कराई जा रही है जिसके बाद उचित कार्रवाई की जाएगी. इस्तीफा देने वाले टीचर्स का कहना है कि राष्ट्रगान गाना उन्हें संविधान से दिया गया मूल अधिकार है, लेकिन स्कूल मैनेजमेंट ने जब राष्ट्रगान से रोका तो स्कूल छोड़ दिया. प्रारम्भिक जांच में यह बात सामने आई है कि नर्सरी से आठवीं तक का यह स्कूल मान्यता प्राप्त ही नहीं है. जिला प्रशासन के कार्यालय से महज एक किलोमीटर के दायरे में स्थित इस स्कूल की मान्यता की जांच कभी प्रशासन ने क्यों नहीं की, इसका जवाब प्रशासन के पास नहीं है.