अहमदाबाद. गुजरात में दलितों पर अत्याचार की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रहीं हैं. बीती रात ध्रांगध्रा-अहमदाबाद बाईपास के पास मेलडी मां मंदिर के पुजारी की हत्या कर दी गई. बताया जा रहा है कि ये पुजारी दलित जाति का था. सुबह लोगों ने जब मंदिर में उसकी लाश देखी तो पुलिस को सूचना दी. चश्मदीदों के अनुसार पुजारी की हत्या पत्थरों से पीट-पाटकर की गई है. पुलिस ने हत्या की जांच शुरू कर दी है. पुजारी का नाम जादव खेंताभाई कालाभाई बताया जा रहा है.  
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि ऊना के दलित परिवार के साथ अत्याचार के मामला अभी शांत नहीं हुआ है कि, अब इस दलित पुजारी की हत्या से क्षेत्र में सनसनी फैल गई है. बताया जा रहा है कि पुजारी की किसी से दुश्मनी नहीं थी। वे काफी लम्बे समय से मंदिर में पूजा कर रहा था. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
वहीं दलितों पर हो रहे अत्याचारों को लेकर वढवाण के साहित्यकारों ने सरकार की तरफ से प्राप्त अवार्ड और राशि को वापस करने की घोषणा की है. साहित्यकार अमृतलाल मकवाना ने कहा कि 27 जुलाई को वे 2012-13 में प्राप्त गुजरात सरकार द्वारा दिया गया अवार्ड वापस करेंगे.