नई दिल्ली. गुजरात में दलितों की पिटाई के बाद वहां दलित समुदाय में भारी गुस्सा है और बुधवार को बुलाए गए गुजरात बंद के दौरान कई स्थानों पर हिंसा और चक्का जाम की खबरें आ रहीं हैं. जूनागढ़ जिले के वंथली में प्रदर्शनकारियों ने 15 बसों के कांच तोड़ दिए और सड़कों पर चक्काजाम कर दिया.  
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
वहीं अमरेली में ग़ुस्साई भीड़ ने पुलिस पर पत्थरों से हमला कर दिया, जिसमें एक हेड कॉन्स्टेबल की मौत हुई है. कई जगहों पर तोड़फोड़ और आगज़नी की घटना हुई है हालांकि बीती रात सिर्फ़ जामनगर से हिंसा की ख़बरें आई हैं. जहां सड़क जाम करनेवालों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े गए, जिसके बाद वहां धारा 144 लगा दी गई है. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
वहीं गुजरात के ऊना में हुए दलित उत्पीड़न का एक और वीडियो सामने आया है. इसमें चौंकाने वाली बात यह है इसमें बुजुर्ग को जिस लाठी से पीटा जा रहा है वह लाठियां पुलिस उपयोग करती है. प्लास्टिक की ट्रांसपरेंट लाठियां पुलिस को दी जाती है अब सवाल यह उठता है इन गुनहगारों के पास पुलिस की लाठिया कैसे पहुंची इस मामले में पुलिस ने जांच के आदेश दे दिए है. हम इस बात की पुष्टि नहीं करते की ये लाठियां पुलिस की हे लेकिन इतना तय है कि पुलिस बल को ही ये लाठिया उपयोग करने के लिए दी गई है.