बुलंदशहर. बुलंदशहर में तीन दिन पहले बच्चे को जन्म देने वाली एक रेप पीड़िता को अस्पताल से ही किडनैप करने की कोशिश की गई है. रेप पीड़िता का कहना है कि नवजात बच्चे का डीएनए टेस्ट रेप के आरोपी SP नेता के खिलाफ निर्णायक सबूत हो सकता है इसलिए वो बच्चे को गायब कराना चाहता है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रेप पीड़िता ने फरवरी में बलात्कार का केस दर्ज कराया था और समाजवादी पार्टी के नेता संजय शर्मा पर कई बार हवस का शिकार बनाने का आरोप लगाया था. संजय बुलंदशहर के कैलावन गांव का पूर्व प्रधान है.
 
नेशनल दस्तक डॉट कॉम में छपी रिपोर्ट के मुताबिक पति के सात विवाद के बाद पीड़िता मदद के लिए संजय के पास गई थी जहां संजय ने उसके साथ रेप किया. केस दर्ज होने के बाद पुलिस ने अप्रैल में संजय शर्मा और उसके साथी मम्मन को गिरफ्तार कर लिया था.
 
संजय जेल में ही है लेकिन मम्मन बेल पर बाहर आ चुका है और तब से संजय के परिजनों के साथ मिलकर पीड़िता के परिवार पर मुकदमा कमज़ोर करने का दबाव बना रहा है. इस बीच प्रसव का समय आ गया और पीड़िता ने सरकारी अस्पताल में तीन दिन पहले बेटे को जन्म दिया.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
बच्चे के पैदा होने की खबर मिलते ही संजय के परिजन अस्पताल पहुंचे और वहां से पीड़िता को बच्चे के साथ घसीटकर ले जाने की कोशिश की. अस्पताल में मौजूद लोगों के हल्ला करने के कारण वो नाकाम रहे. पीड़िता ने सोमवार को एसएसपी वैभव कृष्ण से मुलाकात करके खुद की और बच्चे की हिफाजत की गारंटी करने की मांग की है.
 
एसएसपी ने संबंधित थाने की पुलिस को मामले की निष्पक्ष जांच करने का आदेश दिया है और पीड़िता व बच्चे की सुरक्षा का इंतजाम करने के लिए भी कहा है.