श्रीनगर. हिज्बुल आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद से घाटी के हालात दिन-ब-दिन बिगड़ते ही जा रहे हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक जम्मू-कश्मीर पुलिस ने प्रिटिंग प्रेस के दफ्तरों में छापे मारे साथ ही अखबार प्रकाशित प्रतियां जब्त कर ली और  प्रिंटिग प्रेस को बंद कर दिया. 
 
जिसके विरोध में अखबार मालिकों ने अखबार नहीं छापने का फैसला लिया है और इंग्लिश, उर्दू तथा कश्मीरी किसी भाषा में अखबार 2 दिन से प्रकाशित नहीं हुआ है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
पुलिस कार्यवाही के बाद कश्मीर के अखबारों के संपादकों, प्रकाशकों और मुद्रकों के बीच शनिवार को प्रेस कॉलोनी में बैठक हुई. पत्रकारों ने कार्यवाही के खिलाफ प्रदर्शन किया और इसे प्रेस की स्वतंत्रता पर हमला बताया है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter