लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के बैनर तले मंच के युवाओं ने विधानसभा के सामने धर्म प्रचारक जाकिर नाईक का पुतला फूंका. इस मौके पर मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के सामाजिक संपर्क प्रमुख शफाअत हुसैन ने कहा कि जाकिर नाईक मुस्लिम नौजवानों को गुमराह कर इस्लाम की छवि खराब कर रहे हैं. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
उन्होंने कहा कि रूहानी रास्ते से भटकाकर मुस्लिम नौजवानों को आतंकी रास्ते पर ले जाने का काम डॉ. जाकिर नाईक के द्वारा किया जा रहा है. वह कुरान की गलत व्याख्या कर लोगों को आतंकवादी बनने की प्रेरणा देते हैं और हजरत मोहम्मद मुस्तफा की हिदायतों से गुमराह कर जन्नत के बजाय दोजख के रास्ते पर जाने की हिमायत कर रहे हैं.
 
 
शफाअत हुसैन ने कहा कि जाकिर नाईक इंसान और इंसानियत के बजाय शैतान और शैतानियत के काम करने की प्रेरणा देते हैं. नाईक पैसे के द्वारा बहकाकर जोर जबरदस्ती धर्म परिवर्तन कराने का काम करते हैं.
 
 
शफाअत हुसैन ने सरकार से मांग की है कि डॉ. जाकिर नाईक के खातों की जांच करवाई जाए और उसके कार्यक्रमों पर रोक लगवाई जाए. शख्त कार्रवाई करके उन्हें जेल में डाला जाए, जिससे इस्लाम की छवि खराब न हो और मुसलमान गुमराह न हो.
 
 
उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार डॉ. जाकिर नाईक और उनकी संस्था पर प्रतिबंध लगाए और उनके समाज, देश विरोधी तत्काल कड़ी कार्रवाई करे.
 


जाकिर नाईक को सोमवार सुबह भारत लौटना था लेकिन गिरफ्तारी के डर से वो नहीं लौटे. जाकिर को सोमवार सुबह आठ बजे मक्का से भारत लौटना था. बता दें विवादों में आने के बाद जाकिर ने खुद बताया था कि वह 11 जुलाई को भारत लौटेंगे और 12 जुलाई को अपने उपर लगे आरोपों पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करके सफाई देंगे. इस मामले में जाकिर नाईक ने बकायदा एक वीडियो शूट करके बताया था.