गांधीनगर. गुजरात हाईकोर्ट की ओर से पटेल आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल को राहत तो मिली लेकिन उनपर पाबंदी भी लगाई गई है. रिपोर्ट्स के मुताबिक कोर्ट ने हार्दिक को विसनगर मामले में जमानत तो दे दी लेकिन मेहसाणा जिले में प्रवेश नहीं कर सकते.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दरअसल कोर्ट ने विसनगर में बीजेपी एमएलए रिषिकेश पटेल के ऑफिस पर अटैक करने जैसे मामलों में हार्दिक की जमानत अर्जी पर सुनवाई के दौरान यह फैसल दिया है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
पहले भी मिली दूसरे मामलों में जमानत
गुजरात हाईकोर्ट ने पाटीदार आंदोलन की अगुवाई करने वाले नेता हार्दिक पटेल को अहमदाबाद और सूरत के राजद्रोह मामले में सशर्त जमानत दे दी है. हार्दिक को 6 महीने गुजरात से बाहर ही रहना होगा. राजद्रोह के आरोप में हार्दिक पटेल अक्टूबर 2015 से जेल में बंद हैं.