नई दिल्ली. पतंग उड़ाने में जितना मजा आता है, उससे कहीं ज्यादा दुःख उसके मांझे से किसी की मौत होने पर होता है. चाहे वह मौत किसी पंक्षी या इंसान की ही क्यों न हो.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि गाजियाबाद में पतंग के मांझे से कटकर एक बाइक सवार की मौत हो गई है. हादसा उस वक्त हुआ जब बिल्डर योगेश शर्मा सिकंदराबाद से दिल्ली वापस आ रहे थे, तभी मांझे से उनकी गर्दन कटने से मौके पर ही मौत हो गई.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
देसी मांझा नहीं होता घातक
देशी मांझा जितने ऊंचे दाम का होता है उतना अच्छा माना जाता है, लेकिन ये इतना भी मजबूत नहीं होता कि किसी की गर्दन, उंगली या पैर काट दे. पिछले कई सालों से बाजार में चाईनीज मांझा आया जो दिल्ली में किलो के भाव से मिलता है. इसका रेट बेहद सस्ता होता है. इसकी मजबूती ऐसी होती है कि ये जल्दी टूटता नहीं बल्कि शरीर के किसी अंगों से अगर खिंच जाए तो उसे काट देता है.