जम्मू. आतंकी सगंठन हिजबुल मुजाहिदीन का कमांडर बुरहान वानी पुलिस एनकाउंटर में मारा गया है. जम्मू और कश्मीर के अनंतनाग सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली है. बुरहान के मारे जाने के बाद जम्मू में सियासत शुरु हो गई है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक जम्मू कश्मीर क्षेत्र के प्रमुख अलगावादी नेता सैयद अली शा गिलानी ने कल सूबे में बंद का ऐलान किया है. इस बीच बुरहान की अंतिम यात्रा में ज्यादा से ज्यादा लोगों को आमंत्रित किया गया.
 
 
वहीं राज्य के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने बुरहान के एनकाउंटर को लेकर नया सियासी सवाल खड़ा कर दिया है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा है कि बुरहान न तो पहला है और न आखि‍री. युवाओं के बंदूक थामने की समस्या का राजनीतिक हल ढूंढना जरूरी है.
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक जम्मू-कश्मीर पुलिस एंड आर्मी ने बुरहान के हत्या के बाद ट्रेन पर रोक लगा दी गई है क्योंकि ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि भारी संख्या में लोग इसके खिलाफ प्रोटेस्ट कर सकते हैं.
 
दूसरी ओर, एनकाउंटर के ठीक बाद अनंतनाग और त्राल में स्थि‍ति तनावपूर्ण है. एहतियातन जगह-जगह पुलिस की तैनाती कर दी गई है. इसके साथ ही अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है. 
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक बुरहान पर 10 लाख रुपये का इनाम था. सेना ने बुरहान समेत 3 आतंकियों को मार गिराया है. बुरहान कश्मीर का मोस्ट वॉन्टेड आतंकी था जो कि सोशल मीडिया पर आतंका का वीडियो जारी करता था.