पटना. बिहार के बहुचर्चित टॉपर्स घोटाला मामले में अब आरोपियों की संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई है. इस कड़ी में पुलिस ने बैंकों के सभी क्षेत्रीय प्रबंधकों को आरोपियों के खाते फ्रीज करने का अनुरोध किया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
पटना के पुलिस अधीक्षक (नगर) चंदन कुशवाहा ने बताया कि बिहार टॉपर घोटाले की जांच के लिए बने विशेष जांच दल (एसआईटी) ने बैंकों के सभी क्षेत्रीय प्रबंधकों को पत्र लिखकर टॉपर घोटाले में गिरफ्तार सभी आरोपियों के बैंक खाते फ्रीज करने का अनुरोध किया है.
 
 
इस मामले में अब तक बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (बीएसईबी) के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह, उनकी पत्नी उषा सिन्हा, समिति के पूर्व सचिव हरिहर नाथ झा, बच्चा राय सहित 20 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है. पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि विशेष जांच दल ने फरार चल रहे आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए अदालत से वारंट जारी करने का अनुरोध भी किया है. 
 
 
बता दें कि बिहार में टॉपर घोटाले का मामला सामने आने के बाद बिहार सरकार ने पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनु महाराज के नेतृत्व में एक एसआईटी का गठन किया है. समिति के कई गिरफ्तार अधिकारी व कर्मचारी सरकारी गवाह बन गए हैं.