ग्वालियर. मध्य प्रदेश के ग्वालियर के एक सरकारी अस्पताल में टॉर्च की रोशनी से ऑपरेशन करने का मामला सामने आया है. यह घटना ग्वलियर के सरकारी अस्पताल कमला राजा की है, जहां डॉक्टरों को दो महिलाओं के ऑपरेशन के दौरान बिजली चले जाने के बाद 20 मिनट तक टॉर्च की रोशनी में ऑपरेशन करना पड़ा.  
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
क्या है पूरी घटना
 
रिपोर्ट्स के अनुसार केआरएच के ऑपरेशन थियेटर में मंगलवार सुबह 10.20 बजे के करीब दो ऑपरेशन चल रहे थे. एक टेबल पर शारदा नाम की महिला का ऑपरेशन हो रहा था, वहीं दूसरे टेबल पर एक गर्भवती महिला का ऑपरेशन हो रहा था. इसी बीच जब बिजली गुल होने के बाद भी जनरेटल चालू नहीं हुआ तो डॉक्टरों के होश उड़ गए. वार्ड ब्वॉय को जनरेटर चालू कराने भेजा गया तो पता चला कि जनरेटर रूम में ताला लगा है और कर्मचारी चाबी लेकर नहाने गया था.
 
20 मिनट तक चला ऑपरेशन
 
इसके तुरंत बाद ही आनन-फानन में टॉर्च की व्यवस्था की गई और डॉक्टरों ने 20 मिनट तक टॉर्च की रोशनी में ऑपरेशन किया. 20 मिनट बाद जब बिजली सप्लाई शुरू हुई तो डॉक्टरों ने राहत की सांस ली. जिसके बाद विभागाध्यक्ष डॉ. ज्योति बिंदल ने तत्काल जेएएच अधीक्षक डॉ. जेएस सिकरवार को कर्मचारी द्वारा बरती गई लापरवाही की जानकारी दी. मामले में अधीक्षक ने जनरेटर एजेंसी को नोटिस देते हुए 5 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter

 
ओम इलेक्ट्रिकल्स को दिया गया है ठेका
 
जेएएच में जनरेटर लगाने का ठेका ओम इलेक्ट्रिकल्स को दिया गया है. कंपनी ने जेएएच परिसर में 11 जनरेटर लगाए हैं, जिनकी पूरी जिम्मेदारी फर्म की है. इसके एवज में जेएएच 2 लाख रुपए प्रतिमाह का भुगतान फर्म को करता है. इसके बावजूद ऑपरेशन थियेटर में बिजली नहीं मिल पा रही है.