अहमदाबाद. SIR जडेजा के नाम से मशहूर टीम इंडिया के ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा ने गिर के जंगलों में वन विभाग के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए जंगल सफारी के दौरान गाड़ी से उतरकर शेर के पास तस्वीरें खिंचवाई. गुजरात सरकार ने घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रवींद्र जडेजा अपनी पत्नी और परिवार के दूसरे सदस्यों के साथ बब्बर शेर को देखने गिर के जंगल पहुंचे थे. वहां जडेजा एशियाई शेर से रूबरू तो हुए लेकिन जंगल के कानून को ताक पर रख दिया. जंगल की सुरक्षा में तैनात जवान जडेजा को रोकने के बदले उनको गाड़ी से उतरकर फोटो क्लिक करने का आनंद लेते देखे गए.
 
 
वन विभाग के नियमों के मुताबिक सफारी के दौरान गाड़ी से नीचे उतरकर शेर के साथ फोटो खींचने की इजाजत नहीं है. जडेजा का काम वाइल्डलाइफ प्रोटेक्शन एक्ट का उल्लंघन माना जा रहा है. जूनागढ़ रेंज के मुख्य वन संरक्षक अनिरुद्ध प्रताप सिंह ने कहा है कि गिर नेशनल पार्क एक संरक्षित वन क्षेत्र है और यहां पर्यटकों को जंगल के अंदर गाड़ियों से उतरने की इजाजत नहीं है.
 
सिंह ने कहा कि सोशल मीडिया पर चल रही तस्वीरों से साफ है कि जडेजा न सिर्फ गाड़ी से उतरे बल्कि शेर के पास फोटो खिंचवाई और इस काम में जंगल के गार्ड उनके साथ थे. उन्होंने कहा कि गिर नेशनल पार्क के सुपरिटेंडेंट को मामले की जांच का आदेश दिया गया है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
बारिश के मौसम में 15 जून से 16 अक्टूबर तक कुल चार महीने के लिए गिर में पर्यटन बंद कर दिया जाता है. सूत्रों के मुताबिक जडेजा 15 जून यानी इस सीजन के आखिरी दिन सासन गिर गए थे जहां उन्होंने शेर के साथ तस्वीर लेने की गुस्ताखी कर दी. अब देखना दिलचस्प होगा कि वन विभाग जडेजा के कानून तोड़ने पर क्या एक्शन लेता है.