पटना. बिहार के मसौढ़ी में सड़क किनारे सब्जी बेचने वाले का बेटा अजीत का आईआईटी में सलेक्शन हुआ है. अजीत के लिए यह बेहद खुशी का पल है लेकिन इसके बावजूद अजीत निराश है. क्योंकि वह अपने पिता की ठेले पर सब्जी बेचने में मदद करता है. और वह अपने पिता को छोड़ कर जाने की वजह से परेशान है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अजीत आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों के प्रतिभाशाली बच्चों को आईआईटी की तैयारी करवाने वाली प्रतिष्ठित संस्था ’सुपर 30’ का छात्र है. इस बीच ‘सुपर 30’ संस्थापक आनंद कुमार ने अजीत के हालात को लेकर फेसबुक पर एक इमोश्नल पोस्ट डाला है.
 
आनंद ने अपने छात्र अजीत के घर के हालातों के बारे में बताया है जिसमें लिखा है कि अजीत अपनी पढ़ाई करने के साथ सब्जी के ठेले पर पिता की मदद भी करता है. लेकिन IIT में सलेक्शन की वजह से उसे अपने पिता से अलग होना पडेगा जिसको लेकर अजीत खासा परेशान है.
 

अजीत का कहना है कि मैं आई. आई. टी. जा रहा हूँ पर दुःख हो रहा है यह सोचकर कि पिताजी को अभी और कई वर्षों तक उसी सड़क के किनारे सब्जी बेचने पड़ेगी और वह भी अब अकेले | मैं जब तक था साथ देता था और मेरे पिताजी अब अकेले हो जायेंगे.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
सुपर 30 में नि:शुल्क पढ़ाई
पिछले 13 वर्षों से पटना में स्थापित सुपर 30 से अब तक 308 छात्र आईआईटी की प्रवेश परीक्षा में सफल हो चुके हैं. गौरतलब है कि सुपर 30 में बच्चों को आईआईटी की प्रवेश परीक्षा की तैयारी नि:शुल्क करवाई जाती है.