नई दिल्ली. न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप में भारत की मेंबरशिप रोकने के लिए पूरी ताकत झोंक चुके चीन के 250 सैनिक पिछले हफ्ते अरुणाचल प्रदेश में घुस आए और करीब तीन घंटे तक भारतीय सीमा में रहने के बाद वापस लौटे.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों की इस हरकत को औपचारिक रूप से चीन के सामने उठाने का फैसला किया है. सेना और आईबी के सूत्रों ने चीनी सैनिकों की इस घुसपैठ की पुष्टि की है. सूत्रों के मुताबिक 9 जून को चीन के करीब 250 सैनिक अरुणाचल प्रदेश के यांग्स्ते इलाके में घुस आए और लौटने से पहले करीब तीन घंटे तक भारतीय सीमा में रहे.
 
अमेरिका, मेक्सिको, स्विटजरलैंड समेत कई देशों के समर्थन से भारत न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप की सदस्यता लेने की कोशिश कर रहा है जबकि चीन चाहता है कि पाकिस्तान को इसकी सदस्यता दी जाए. चीन ने खुले रूप से भारत का समर्थन कर रहे देशों से पूछा भी है कि परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं करने के बावजूद अमेरिका का सहयोगी होने के नाते भारत को यह रियायत क्यों दी जा रही है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर जब अप्रैल में चीन की यात्रा पर गए थे तब भी चीनी चैनिकों के भारत की सीमा में घुस आने के मसले को उठाया था. चीन अरुणाचल प्रदेश के कई हिस्सों पर अपना दावा जताता रहा है और बार-बार उसके सैनिक भारतीय सीमा में घुस आते हैं.