सूरत. गुजरात के सूरत में स्वामीनारायण मंदिर में भगवान स्वामीनारायण को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का यूनिफॉर्म पहनाए जाने के मामला सामने आया है. भगवान स्वामीनारायण को आरएसएस की ड्रेस पहनाने की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है. जिसके बाद से सियासी उठापटक शुरू हो गई है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
जहां कांग्रेस ने मामले को लेकर बीजेपी पर हमला बोला है और इस घटना को भगवान की निंदा करार दिया है, तो वहीं बीजेपी ने धार्मिक संस्थाओं को ऐसी बातों से दूर रहने की बात कही है.
 
सोशल मीडिया में वायरल फोटो
 
मामला उस समय सामने आया जब संघ की वेशभूषा वाली भगवान स्वामीनारायण की प्रतिमा की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई. तस्वीर में भगवान की प्रतिमा को सफेद शर्ट, खाकी रंग के निकर, काली टोपी और काले जूते पहनाए गए हैं. तस्वीर में प्रतिमा के एक हाथ में राष्ट्रीय ध्वज भी दिखाई दे रहा था. वहीं मंदिर के स्वामी विश्वप्रकाशजी के अनुसार, यह परिधान कुछ दिनों पहले एक स्थानीय श्रद्धालु ने उपहार में दिया था.
 
RSS ने दी सफाई
 
राज्य में आरएसएस प्रवक्ता प्रदीप जैन ने मामले में सफाई देते हुए कहा है कि हर साल गुजरात में संघ शिक्षा पर्व मनाया जाता है, जिसमें करीब 600 लोग जमा होते हैं और ये कार्यक्रम 21 दिनों तक चलता है. इस बार ये पर्व सूरत के स्वामीनारायण मंदिर परिसर में था. पूज्य संतों को लगा कि संघ की शिक्षा समाज के लिए है, इसलिए उन्होंने भगवान को आरएसएस का यूनिफॉर्म पहना दिया. आरएसएस ने संतों से ऐसा करने के लिए कभी नहीं कहा. इसी कड़ी में पिछले दिनों भगवान को मिलेट्री का ड्रेस पहनाया गया था.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter