भोपाल. रतलाम की तहसीलदार अमिता सिंह को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तारीफ करना उस वक्त काफी भारी पड़ी जब उन्होंने मोदी की प्रशंसा करते हुए अपनी फेसबुक पोस्ट पर लिखा कि मोदी को ‘राजीव गांधी आत्महत्या योजना’ शुरू करनी चाहिए. जिसके बाद उनका चौतरफा विरोध शुरू हो गया. हालांकि विवाद बढ़ते देख उन्होंने इस पर माफी मांगते हुए अपना पोस्ट भी डिलीट कर दिया.
 
इससे पहले हाल ही में मध्य प्रदेश के आईएएस अजय गंगवार को सोशल मीडिया पर नेहरू-गांधी फैमिली की तारीफ करना महंगा पड़ गया था. जिसके बाद राज्य सरकार ने अजय गंगवार को बड़वानी कलेक्टर पद से हटाकर मंत्रालय में डिप्टी सेक्रेट्री बना दिया.
 
क्या लिखा था पोस्ट में ?
रिपोर्ट्स के अनुसार अमिता सिंह ने फेसबुक वॉल पर लिखा था कि प्रधानमंत्री अफगानिस्तान गए. वहां मुसलमानों ने भारत के झंडे लेकर सड़क पर ‘वंदे मातरम्’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाए. उन्होंने यह भी लिखा था कि प्रधानमंत्री से अनुरोध है कि वे ‘राजीव गांधी आत्महत्या योजना’ शुरू करें ताकि सेक्युलर और कांग्रेसी विचार वाले ऐसी खबर सुनकर आत्महत्या कर सकें. सोशल मीडिया पर विरोध होने के बाद अमिता सिंह ने फेसबुक पोस्ट हटा दिया.
 
अमिता ने मामले में दी सफाई
वहीं विरोध के बाद पूरे मामले पर सफाई देते हुए अमिता ने कहा कि मेरे वॉट्सएप ग्रुप पर यह मैसेज आया था. इसे मैंने फेसबुक पर डाल दिया, लेकिन अरजरिया जी ने बात का बतंगड़ बना दिया. किसी को बुरा न लगे, इसलिए मैंने माफी मांग ली. 
बता दें कि पूर्व आईएएस अफसर अखिलेंदु अरजरिया ने पोस्ट का विरोध करते हुए लिखा था कि गंगवार मामले में उनका तबादला किया गया, उन्हें नोटिस दिया गया. अब सरकार इस मामले पर भी संज्ञान ले