मथुरा. मथुरा हिंसा को लेकर सनसनखेज खुलासा सामने आया है. मथुरा कांड के मुख्य आरोपी रामवृक्ष को जिंदा बताया जा रहा है. इस बीच रामवृक्ष के वकील एल के गौतम ने खुलासा करते हुए कहा है कि वह जवाहर बाग में नहीं मारा गया. रिपोर्ट्स के मुताबिक रामवृक्ष को मुठभेड़ के बाद पुलिस लाइन में देखा गया था. रामवृक्ष को घायल अवस्था में देखा गया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
कौन है रामवृक्ष यादव?
मथुरा में हुए बवाल का मुख्य आरोपी रामवृक्ष बाबा जयगुरुदेव का शिष्य हुआ करता था और उनकी जायदाद में हिस्से के लिए लंबी लड़ाई की. लेकिन जब वहां से कुछ नहीं मिला तो इसने अलग संगठन बना लिया. रामवृक्ष गाजीपुर के मरदह ब्लॉक के रायपुर बाघपुर गांव का रहने वाला था. 15 मार्च 2014 में वो करीब 200 लोगों को लेकर मथुरा आया था. उसने यहां पर 2 दिन रहने के लिए प्रशासन से अनुमति मांगी थी लेकिन दो दिन बाद वो वहां से हटा नहीं.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
24 लोगों की हुई थी मौत
पुलिस के साथ हुई मुठभेड़ से भगवान श्रीकृष्ण की नगरी मथुरा खून से लाल हो गई थी. यहां के जवाहरबाग में अतिक्रमण हटाने गई पुलिस टीम पर दंगाईयों ने हमला बोल दिया जिसमें SP सिटी मुकुल द्विवेदी और एक SO संतोष कुमार यादव सहित 24 लोगों की मौत हो गई.