नई दिल्ली. भारतीय मौसम विभाग ने दावा किया है कि केरल में 9 जून तक मानसून पहुंच जाएगा. विभाग के मुताबिक केरल में दक्षिण पश्चिमी मानसून की शुरुआत के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं. बीते कुछ दिनों से केरल में बारिश हो रही है. मौसम विभाग के अधिकारी केरल, लक्षद्वीप और कर्नाटक के मैंगलोर में स्थापित 14 मौसम केंद्रों के आंकड़ों का विश्लेषण कर रहे हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
नियम यह है कि अगर इन 14 मौसम केंद्रों में से 60 प्रतिशत में, 10 मई के बाद लगातार दो दिनों तक 2.5 मिलीमीटर या इससे ज्यादा बारिश होती है तो इसके दूसरे दिन केरल में मानसून की शुरुआत की घोषणा कर दी जाती है. बशर्ते हवा और बादल का बनना भी अनुकूल हो.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
दक्षिणी पश्चिमी मानसून सामान्यत: केरल में 1 जून के आसपास सक्रिय होता है. यह तरंगों में पूर्वोत्तर की ओर आगे बढ़ता है और 15 जुलाई के आसपास पूरे देश में फैल जाता है. पिछले साल मौसम विभाग ने 30 मई को मानसून की शुरुआत की भविष्यवाणी की थी, लेकिन असल में मानसून 5 जून को सक्रिय हुआ था.