नई दिल्ली. एक ओर जहां पॉर्न देखने से लोग कतराते हैं, कुछ लोग छिपकर देखते है. वहीं एक रिसर्च का कहना है कि पॉर्न देखने वाले लोगों का धर्म के प्रति ज्यादा झुकाव होता है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अमेरिका के ओक्लाहोमा यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इसका दावा करते हुए कहा है कि जो लोग सप्ताह में एक बार पॉर्न फिल्में देखते हैं, उनका धर्म के प्रति रुझान बना रहता है. यूनिवर्सिटी के धार्मिक मामलों के सहायक प्रोफेसर सैमुएल प्री के अनुसार पॉर्न देखने के बाद धर्म का उल्लंघन करने वाले लोग खुद को दोषी मानने लगते हैं.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
यह रिपोर्ट सेक्स रिसर्च नामक जर्नल में प्रकाशित हुई है. इस रिसर्च में 1,314 लोगों को शामिल किया गया था, जिनपर 6 साल तक स्टडी करने के बाद यह रिजल्ड सामने आया है. इस शोध में पाया गया कि हफ्ते में एक बार पॉर्न देखने वाले लोगों का झुकाव धर्म की ओर हुआ, हालांकि हफ्ते में एक बार से कम और ज्यादा बार पॉर्न देखने को लेकर अभी कोई रिपोर्ट सामने नहीं आई है.