पटना. हाजीपुर की रहने वाली एक लड़की जिसने आर्ट्स स्ट्रीम में टॉप किया है उसे अपने सब्जेक्ट के नाम ठीक से याद नहीं हैं और न ही उसे विषय से संबंधित कोई जानकारी है. बिहार की घटना पहली नहीं है. देश भर में ऐसे कई मामले गाहे-बगाहे सामने आते रहते हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक आर्ट्स स्ट्रीम की टॉपर रूबी राय को 500 नंबर की परीक्षा में 444 अंक मिले. इस टॉपर से जब इंडिया न्यूज़ संवाददाता ने बात की तो उसे अपने सब्जेक्ट तक के नाम ठीक से याद नहीं थे.
 
पॉलीटिकल साइंस को प्रोडिकल साइंस बोलने वाली टॉपर
 
हैरान करने वाली बात यह है कि पॉलिटिकल साइंस में 100 में 91 नंबर लाने वाली रूबी से जब पॉलिटिकल साइंस क्या है, ये पूछा गया तो उसका जवाब सुनकर आप माथा पकड़ लेंगे. पॉलीटिकल साइंस को प्रोडिकल साइंस बोलने वाली रूबी ने पॉलिटिकल साइंस को लेकर कहा कि इस सब्जेक्ट में खाना बनाने से संबंधित पढ़ाई होती है. उसे ये भी नहीं पता था कि परीक्षा कितने नंबर की थी. 
 
हम आपको बता दें कि जब टॉपर रुबी से पूछा गया कि इस परीक्षा में उन्होंने कितने सब्जेक्ट की परीक्षा दी तो उनका जवाब था म्यूजिक, प्रोडिकल साइंस, जियोग्राफी. इन सब्जेक्ट के नाम भी टॉपर रूबी को सही से याद नहीं थे.
 
 
साइंस के टॉपर सौरभ कुमार को भी साइंस के मामूली सवाल पता ही नहीं थे. ऐसे में ये सवाल उठने लगा है कि बिहार की शिक्षा व्यवस्था कैसी है जहां राज्य के टॉपर को उस स्ट्रीम के विषय का भी पता नहीं है. कैसे हो रही है बिहार में परीक्षा और कैसे दिए जा रहे हैं नंबर कि विषय से अनजान विद्यार्थी भी टॉपर बन जा रहे हैं. 
 
बता दें कि बिहार इंटर आर्ट्स में पांच लाख से अधिक छात्र शामिल हुए थे जिसमें से कुल 56.56 फीसदी छात्र पास हुए हैं जबकि छात्राओं का प्रतिशत 56.85 फीसदी रहा है. बोर्ड ने इस साल 1109 परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षा आयोजित की थी. यह परीक्षा 24 फरवरी से लेकर 4 मार्च तक चली थी.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter