नासिक. भूमाता ब्रिगेड की अध्यक्ष तृप्ति देसाई पर शुक्रवार की सुबह नासिक से पुणे लौटते वक्त हमला हुआ. तृप्ति ने आरोप लगाया है कि हमलावरों ने उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी है. गुरुवार को तृप्ति कुछ अन्य महिलाओं के साथ महाराष्ट्र के नासिक में कपालेश्वर मंदिर में पूजा करने के लिए गई थीं, जहां उन्हें विरोध का सामना करना पड़ा.
 
बता दें कि पूजा के दौरान मंदिर में मचे बवाल के बाद पुलिस ने तृप्ति और कुछ महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया था. रात भर पुलिस स्टेशन में रखने के बाद शुक्रवार की सुबह उन्हें रिहा किया गया था. रिहा होने के बाद भूमाता ब्रिगेड की अध्यक्ष कुछ महिलाओं के साथ पुणे के लिए जैसे ही निकलीं उनकी कार पर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया.
 
पुलिस ने इस मामले में एक दर्जन अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. इस हमले में तृप्ति को हल्की चोट आई है. उन्हें नासिक के एक प्राइवेट अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है.
 
कपालेश्वर मंदिर के गर्भगृह में महिला और पुरुष दोनों के प्रवेश पर प्रतिबंध है. इस बात का विरोध करते हुए तृप्ति ने मंदिर के गर्भ गृह में भी प्रवेश की कोशिश की लेकिन उन्हें जाने नहीं दिया गया.
 
गुरुवार को मंदिर में मौजूद श्रद्धालुओं ने ‘बम बम भोले’ का नारा लगाते हुए कड़ा विरोध किया था, जिसके बाद मची अफरातफरी का फायदा उठाते हुए हुए किसी ने देसाई पर चप्पल भी फेंकी थी.
 
वहीं कपालेश्वर मंदिर के गर्भगृह में दूसरी बार प्रवेश करने से रोके जाने के बाद तृप्ति देसाई ने आरोप लगाया कि वे निचली जाति की हैं, जिसकी वजह से मंदिर के पुजारी उनका विरोध कर रहे हैं. तृप्ति ने पिछले गुरुवार को भी मंदिर में प्रवेश करने की कोशिश की थी.
 
बता दें कि भूमाता ब्रिगेड ने इससे पहले शनि शिंगणापुर मंदिर, त्रयंबकेश्वर मंदिर और कोल्हापुर के महालक्ष्मी मंदिर के गर्भगृह में महिलाओं को पुरुषों की तरह प्रवेश दिलवाने में सफलता हासिल की है.